देश से जाति खत्म करने को लेकर रविवार से सत्याग्रह

नवभारत टाइम्स | नई दिल्ली

लोकसभा चुनाव के बीच जहां राजनीतिक दल जातिगत समीकरण से लेकर सामाजिक समीकरण देखते हुए अपनी-अपनी जीत का दावा कर रहे हैं, वहीं युवाओं का एक संगठन देश से जाति खत्म करने की मांग को लेकर सत्याग्रह की तैयारी कर रहा है। संविधान निर्माता बीआर आंबेडकर की 128वीं जयंती से इसकी शुरुआत का ऐलान किया गया है।

यूथ फॉर इक्विलिटी (वाईएफई) ने ऐलान किया है कि 14 अप्रैल से देशव्यापी शांतिपूर्ण सत्याग्रह की शुरुआत की जाएगी। यूथ फॉर इक्विलिटी के प्रेसिडेंट डॉ. कौशल कांत मिश्रा ने कहा कि यह सत्याग्रह देश से जाति के विनाश के लिए संसद के दोनों सदनों से नया कानून बनाने की मांग के लिए है।
उन्होंने कहा कि 14 अप्रैल को वाईएफई भारत के लगभग 500 से ज्यादा जगहों में एक ही वक्त में मोमबत्तियां जलाकर इस सत्याग्रह की शुरुआत करेगा। उन्होंने दावा किया कि यह देश में अपनी तरह का पहला गैर राजनीतिक सत्याग्रह होगा। डॉ. मिश्रा ने कहा कि संविधान निर्माता बीआर आंबेडकर की 128वीं जयंती पर यूथ फॉर इक्विलिटी पूरे देश में जाति हटाने के लिए शांतिपूर्ण मार्च करके उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करेगी। उन्होंने कहा कि हमारा संगठन जातिगत नीतियों के विरोध और सामाजिक सद्भाव के लिए 2006 से निरंतर काम कर रहा है। अब हम संविधान निर्माता की जयंती पर पूरे देश में जाति हटाओ का संदेश देंगे। वाईएफई का दावा है कि सभी प्रदेश की राजधानियों, प्रमुख शहरों में 14 अप्रैल को शाम 6 से 7 बजे के बीच मोमबत्तियां जलाकर इसकी शुरुआत होगी। दिल्ली में इंडिया गेट से यह सत्याग्रह शुरू किया जाएगा। इसे मिशन 2020 का नाम दिया गया है। डॉ मिश्रा ने बताया कि मिशन 2020 में देश की बहुत सारी गैर राजनीतिक संस्थाएं शामिल हैं, जो अलग-अलग शहर में मिशन 2020 को सफल बनाने के लिए एक साथ आई हैं।

You may also like...

Leave a Reply